Nafrat is kadar hai tujhse

दोस्त बन बन के मिले
मुझको मिटाने वाले।।
मैंने देखे हैं कई रंग बदलने वाले।।

नफरत इस कदर है तुझसे
की अब मौत जब भी आए
तो मेरी आंखो में तुझसे बिछड़ने का ग़म ना हो।

खुद पर बीते तो सच लगता है
दूसरों पे गुज़रे तो खेल लगता है।

One Comment on “Nafrat is kadar hai tujhse”

Leave a Reply